Wednesday, May 22, 2024
No menu items!
spot_img
Homeहरियाणासोहना में उत्पाती बंदरों के आतंक, लोगों ने लगाई गुहार

सोहना में उत्पाती बंदरों के आतंक, लोगों ने लगाई गुहार

हिन्दुस्तान तहलका / ललित जिंदल

सोहना – सोहना कस्बे में आतंकी बंदरों से नागरिक ख़ौफ़ज़दा हैं। जो मौका पाते ही लोगों को चोट ग्रस्त कर डालते हैं। इसके अलावा मकानों में घुसकर सामान का भी नुकसान कर देते हैं। ऐसा होने से लोग बंदरों से काफी भयभीत हैं। वहीं दूसरी ओर हैरत की बात है कि स्थानीय नागरिकों द्वारा नगरपरिषद विभाग को कई बार शिकायत करने के बाद भी ऐसे आतंकी बंदरों की पकड़ने की पहल नहीं कि है जिससे नागरिकों में भारी रोष व गुस्सा व्याप्त है। कस्बेवासियों ने बंदरों को जल्द पकड़कर समस्या का समाधान करने को कहा है।

विदित है कि सोहना कस्बा आतंकी बंदरों की शरणस्थली बनकर रह गया है। जहाँ पर बन्दर हर वक्त घूमते रहते हैं। ऐसे बंदरों ने नागरिकों का जीना मुहाल कर डाला है। जिनसे लोग काफी भयभीत हैं। ऐसे बन्दर महिलाओं, बच्चों व चलते फिरते लीगों को भी नहीं छोड़ते हैं तथा उनपर मौका पाते ही झपट पड़ते हैं और उनको चोट ग्रस्त कर डालते हैं। बंदरों के काटने से कई बच्चे व महिलाएं घायल हो चुके हैं। लोगों में आतंकी बंदरों के भय दिनों दिन सता रहा है। इसके अलावा बंदरों के डर से महिलाओं ने अपने घरों की छतों पर जाना भी छोड़ दिया है। बन्दर घरों में घुसकर रसोई व फ्रीज में रखे सामान को भी चट कर जाते हैं। बाजारों में बन्दर अन्य जानवरों की भांति इधर उधर खुले आम घूमते रहते हैं। स्थानीय नागरिकों ने उक्त आतंकी बंदरों की शिकायत कई बार नगर परिषद विभाग से की है किंतु आजतक भी कोई समाधान नहीं निकला है। जिसके कारण नागरिकों में काफी गुस्सा है। कस्बे के प्रबुद्ध नागरिक व्यापार मंडल सोहना प्रधान अशोक गर्ग, योगी समाज प्रधान सुरेंद्र योगी, सोनू शर्मा, राजू मित्तल, नवीन गोयल, आनंद गर्ग, सर्राफा यूनियन पूर्व प्रधान अशोक वर्मा, चन्दर मोंगिया आदि ने नगर परिषद विभाग से ऐसे आतंकी बंदरों से निजात दिलाने के लिए तुरन्त ही उनको पकड़ने को कहा है। लोगों ने यह भी कहा कि अगर विभाग ने उक्त समस्या को गंभीरता से नहीं लिया तो इसके खिलाफ आंदोलन छेड़ा जाएगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

Translate »