Wednesday, July 17, 2024
No menu items!
spot_img
Homeअन्य राज्य52 घंटे बाद जूता व्यापारी का अगवा बेटा बरामद, सिरसा में सीएआई...

52 घंटे बाद जूता व्यापारी का अगवा बेटा बरामद, सिरसा में सीएआई से हुई मुठभेड़, दो बदमाशों को लगी गोली

पुलिस ने चार अपहरणकर्ताओं को किया गिरफ्तार

व्यापारी से मांगी थी 50 लाख की फिरौती

हिंदुस्तान तहलका / विकास संडवा
तोशाम। तोशाम के जूता व्यापारी के अगवा नाबालिग बेटे को पुलिस ने रविवार देर रात 52 घंटे बाद सिरसा से बरामद कर लिया है। पुलिस ने चार अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार किया है और बच्चे को तोशाम में परिजन को सौंप दिया है।
तोशाम से बच्चे का अपहरण करके सिरसा पहुंचे बदमाशों को पकड़ने पहुंची भिवानी सीआईए की टीम पर बदमाशों ने फायरिंग कर दी। इसके बाद सीआईए ने जवाबी कार्रवाई की, फायरिंग में भाग रहे दो बदमाशों को गोलियां लगी। जिससे वह नीचे गिर गए। पुलिस ने बदमाशों की चंगुल से बच्चे को छुड़वाकर दोनों घायल बदमाशों को इलाज के लिए सिविल हॉस्पिटल पहुंचाया गया। यहां से डॉक्टरों ने उन्हें अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में रेफर कर दिया। पुलिस की कार्रवाई में चारों बदमाश पुलिस के हत्थे चढ़े है। सीआईए की टीम ने पकड़े गए आरोपियों को पैदल मार्च करवाया। सुरेंद्र चौक, बस स्टैंड, तिगोड़ा पार्क होते कोर्ट में पेश किया।  इस दौरान भारी पुलिस बल भी मौजूद रहा।

12 वर्षीय बच्चे का अपहरण कर लिया था

जानकारी के अनुसार, 9 फरवरी को तोशाम से गाड़ी सवार चार बदमाशों ने 12 वर्षीय राघव पुत्र मनोज कुमार का अपहरण कर लिया था। इसके बाद भिवानी की सीआईए पुलिस बदमाशों की तलाश में जुट गई। रविवार को सीआईए को सूचना मिली कि बदमाश सिरसा की ओर गए हैं। इंस्पेक्टर योगेश कुमार,इंस्पेक्टर रविंद्र कुमार व इंस्पेक्टर कुलदीप के नेतृत्व में सीआईए की तीन टीमें सिरसा पहुंच गई। इसी दौरान गुप्त सूचना मिली की बदमाश गाड़ी में सिरसा की चतरगढ़पट्टी इलाके में घूम रहे हैं। सीआईए की टीम ने लोकल पुलिस को अपने साथ लेकर चतरगढ़पट्टी इलाके की घेराबंदी कर बदमाशों की तलाश शुरू कर दी। रविवार को करीब साढ़े 10 बजे सीआईए को एक गाड़ी दिखी। सीआईए की टीम ने ओवरटेक कर गाड़ी को रोकने की कोशिश की बदमाशों ने सीआईए की गाड़ी को टक्कर मार दी। जिससे सीआईए की गाड़ी पलटने से बाल-बाल बची। इसके बाद बदमाश गाड़ी से निकलकर भागने लगे। इंस्पेक्टर योगेश ने उन्हें पकड़ने की कोशिश की तो एक बदमाश ने पिस्तौल से इंस्पेक्टर योगेश पर गोली चला दी,लेकिन योगेश कुमार बाल बाल बच गए। इसके बाद एएसआई आनंद ने भाग रहे बदमाशों को सरेंडर करने को कहा तो दूसरे बदमाश ने एएसआई आनंद पर गोली चला दी। बदमाशों की फायरिंग के जवाब में सीआईए की टीम ने जवाबी फायरिंग की। जिसमें दो बदमाशों के पैर पर गोली लगी और वे नीचे गिर गए। इसके बाद पुलिस ने भागने की कोशिश कर रहे दोनों बदमाशों को दबोच लिया।

यहां के रहने वाले हैं चारों बदमाश

पुलिस ने काबू किए बदमाश से पूछताछ की तो उसकी पहचान सुदर्शन उर्फ संदीप निवासी शीशवाला जिला चरखी दादरी के रूप में हुई। दूसरे की पहचान खेतू पुत्र राधेश्याम निवासी बागनवाला जिला भिवानी के रूप में हुई। तीसरे की पहचान रवि कुमार पुत्र दिलबाग निवासी बागनवाला जिला भिवानी के रूप में हुई। चौथे बदमाश की पहचान लेखू उर्फ वीर पुत्र राधेश्याम निवासी बागनवाला के रूप में हुई।

पुलिस ने बच्चे के हाथ-पैर खोले

गिरफ्त में आए बदमाशों ने पुलिस को बताया कि अपहृत बच्चा गाड़ी की पिछली सीट पर हाथ पैर बांधकर और मुंह पर टेप लगाकर छुपाया गया है। इसके बाद पुलिस ने गाड़ी में से बच्चे के हाथ पैर खोलकर और मुंह से टेप हटाकर पूछताछ की तो उसने अपना नाम राघव पुत्र मनोज बताया। राघव ने पुलिस को बताया कि 9 फरवरी 2024 की शाम को बदमाशों ने उसका अपहरण कर लिया था।

घायल बदमाशों को पहुंचाया हॉस्पिटल

सीआईए की टीम ने गोली लगने से घायल सुदर्शन व खेतू को उपचार के लिए सिविल हॉस्पिटल पहुंचाया। यहां से डॉक्टरों ने दोनों को अग्रोहा मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। सिविल लाइन थाना पुलिस का कहना है कि आरोपियों के खिलाफ पुलिस टीम पर हमला करने,सरकारी कार्य में बाधा डालने व शस्त्र अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया है।
वहीं बार एसोसिएशन के प्रधान सत्यवान वकील ने कहा कि जिन आरोपियों ने राघव का अपहरण किया था। उनकी वकालत कोई नहीं करने का फैसला लिया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

Translate »