Monday, April 22, 2024
No menu items!
spot_img
HomeहरियाणाHaryana News: कुरुक्षेत्र में पांच एकड़ भूमि पर बनेगा संत शिरोमणि गुरु...

Haryana News: कुरुक्षेत्र में पांच एकड़ भूमि पर बनेगा संत शिरोमणि गुरु रविदास का भव्य स्मारक

-गुरु रविदास ने अपनी वाणी से समाज को एकरूपता में पिरौने का काम किया: Dushyant chautal

हिन्दुस्तान तहलका / नितिन गुप्ता, मुख्य संपादक

भिवानी – हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि संत गुरु रविदास ने  500 से अधिक साल पहले ही समाज से किसी भी प्रकार के भेदभाव को मिटाने का संदेश दिया और समाज को एकरूपता में पिरौने का काम किया। वे अंध विश्वास और आडम्बर के घोर विरोधी थी। उन्होंने कहा कि सरकार संत महापुरुषों की जीवन दर्शन व उनके उपदेशों को घर-घर तक पहुंचाने का काम कर रही है। कुरुक्षेत्र में पांच एकड़ जमीन पर संत गुरु रविदास का भव्य स्मारक बनवाया जाएगाजिस पर करोंड़ों रूपये खर्च होंगेइससे युवा पीढ़ी को प्रेरणा मिलेगी। आज युवा पीढ़ी को गुरु रविदास जैसे संत-महापुरुषों के बताए गए रास्तों पर चलने की जरूरत है।

उप मुख्यमंत्री श्री चौटाला शनिवार को भिवानी जिला के कस्बा बवानीखेड़ा में गुरु रविदास मंदिर प्रांगण में आयोजित संत रविदास जंयति समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे।उन्होंने कहा कि संत गुरु रविदास एक महान संत थे, जिन्होंने समाज से किसी भी प्रकार के  भेदभाव को समाप्त करने के लिए जीवन पर्यन्त संदेश दिया। वे कर्म करने में विश्वास रखते थे। उनके अनुसार इंसान का मन पवित्र होना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार गरीब वर्ग के लिए कल्याण के लिए प्रतिबद्घ है। जन कल्याणकारी नीतियां लागू करने के साथ-साथ सरकार ने बजट में एससी और बीसी की चौपालों के जीर्णोद्घार के लिए 200 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है।

प्रदेश में करीब 1500 Library खुली

उन्होंने कहा कि आज का समय प्रतियोगिता का है। कड़ी मेहनत करने वाला बच्चा ही आगे निकलेगा, इसी के चलते गांवों में डिजीटल लाईब्रेरी खोली जा रही हैं। गांवों से मिले प्रस्ताव पर कार्रवाई करते हुए प्रदेश में करीब 1500 लाइब्रेरी खोली जा चुकी हैं। परिणाम स्वरूप गांवों के बच्चे अपने घर पर ही प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं, उनको अब शहर में जाने की जरूरत नहीं पड़ती है। लाईब्रेरी के माध्मय से गांवों क बच्चे उच्च पदों पर पहुंच रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा के बिना तरक्की नही है। उन्होंने मंदिर कमेटी से कहा कि वे मंदिर परिसर में चली आ रही लाइब्रेरी को अपग्रेड करने व छात्रावास का एस्टीमेट बनाकर भेंजे, ताकि उसको अमलीजामा पहनाया जा सके।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

Translate »