Saturday, April 13, 2024
No menu items!
spot_img
HomeराजनीतिHaryana News: मोदी सरकार में इलेक्टोरल बॉन्ड आजादी के बाद का सबसे...

Haryana News: मोदी सरकार में इलेक्टोरल बॉन्ड आजादी के बाद का सबसे बड़ा घोटाला: आफताब अहमद

⇒ सर्वोच्च न्यायालय के जज की निगरानी में हो जांच

हिंदुस्तान तहलका / राकेश वर्मा

नूंह – लोकसभा चुनाव से पूर्व इलेक्टोरल बॉन्ड के आंकड़े सार्वजनिक होने के बाद सियासी बवाल लगातार बढ़ रहा है, कांग्रेस सहित सभी विपक्षी दल इस मुद्दे पर भाजपा और केंद्र की मोदी सरकार को घेरने में जुटे हैं। दक्षिण हरियाणा के कद्दावर नेता आफताब अहमद ने पत्रकारों से बातचीत में सरकार पर जमकर निशाना साधा है।

कांग्रेस विधायक दल के उप नेता चौधरी आफताब अहमद ने भी इलेक्टोरल बॉन्ड के जरिए चुनावी चंदा लेने के मामले में भाजपा की मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को भाजपा का सीधा हाथ बताया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी कहते थे कि ना खाऊँगा, ना खाने दूँगा लेकिन आज साफ़ है कि ऐसा लगता है कि वो बीजेपी को खूब खिला रहे हैं।

आफताब ने कहा कि इलेक्टोरल बॉन्ड डाटा सार्वजनिक होने के बाद बीजेपी द्वारा मचाई गई लूट देश के सामने आ गई है, इलेक्टोरल बॉन्ड की जानकारी से तो ऐसा लगता है कि जैसे ईडी भाजपा का दाहिना हाथ बनकर रह गई है। जिन कंपनियों पर केंद्रीय एजेंसियों ने छापे मारे। उन्होंने ही भाजपा को इलेक्टोरल बॉन्ड से चंदा दिया और उन पर चल रही कार्रवाई रुक गईं।

आफताब ने कहा कि भाजपा ने सट्टेबाजी, जुआ आदि का काम करने वाली कंपनियों तक से चंदा लिया है, ये ही भाजपा के चरित्र का सत्यापन है। कांग्रेस शुरू से कह रहे थी कि इलेक्टोरल बॉन्ड देश का सबसे बड़ा घोटाला है, अब ये देश के सामने आ गया है कि भाजपा देश की सबसे भ्रष्ट पार्टी है, जिसने भ्रष्टाचार का सरकारीकरण कर दिया है। उन्होंने कहा कि ये आश्चर्यजनक है कि जो कंपनियां घाटे में चल रही हैं, वो भी करोड़ों का चंदा भाजपा को दे रही हैं।
अहमद ने कहा कि सबसे अधिक कीमत के इलेक्टोरल बॉन्ड खरीदने वाली कंपनी फ्यूचर गेमिंग एंड होटल सर्विसेज़ है इस कंपनी पर ईडी ने 2019 में मनी लाउंड्रिंग की जाँच शुरू की थी।

फ्यूचर गेमिंग ने कुल 1368 करोड़ रुपये के बांड दान दिये हैं, वहीं मेघा इंजीनियरिंग ने 966 करोड़ रुपये दिए  जबकि मेघा इंजीनियरिंग के ख़िलाफ़ भी ईडी ने 2019 में जाँच शुरू की थी। वेदांता लिमिटेड ने 376 करोड़ दान किए हैं ये वही कंपनी है जिसपर 2018 के मध्य में ईडी  ने जाँच शुरू कर गड़बड़ी के आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा कि 11 अप्रैल 2023 को मेघा इंजीनियरिंग ने 100 करोड़ के इलेक्टोरल बॉन्ड किसको दिए? लेकिन एक महीने के अंदर ही उसे बीजेपी की महाराष्ट्र सरकार से 14,400 करोड़ रुपये कॉन्ट्रैक्ट मिल जाता है। हालांकि, एसबीआई ने इस जानकारी में बॉन्ड के नंबर छिपा लिए हैं। बीजेपी ने इस अवधि में कुल 60 अरब रुपये से अधिक के इलेक्टोरल बॉन्ड को भुनाया है, वहीं इस मामले में दूसरे नंबर पर तृणमूल कांग्रेस है, जिसने 16 अरब रुपये से अधिक के इलेक्टोरल बॉन्ड को इनकैश किया है।

विधायक आफताब ने कहा कि और अधिक जानकारी सामने आने वाली है लेकिन ये साफ़ है कि बीजेपी को भारी चंदा मिला, फिर चंदे के बाद किसी को ईडी से छुटकारा मिला तो किसी कंपनी को हजारों करोड़ का धंधा मिला। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद का ये सबसे बड़ा घोटाला है जिसकी जांच सर्वोच्च न्यायालय के वर्तमान जज की निगरानी में की जानी चाहिए और जनता के सामने सच आना चाहिए कि कैसे जनता को बरगला कर सबसे बड़ी लूट को अंजाम दिया गया। इस दौरान पीसीसी सदस्य महताब अहमद भी उनके साथ मौजूद थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

Translate »